Karnataka Solutions for Class 9 Hindi वल्लरी Chapter 5 मौसी

You can Download मौसी Questions and Answers Pdf, Notes, Summary Class 9 Hindi Karnataka State Board Solutions to help you to revise complete Syllabus and score more marks in your examinations.

मौसी Questions and Answers, Notes, Summary

अभ्यास

I. एक वाक्य में उत्तर लिखिए :

प्रश्न 1.
माँ के जैसे प्यारी कौन थी ?
उत्तर:
माँ के जैसे प्यारी मौसी थी।

प्रश्न 2.
मौसी सभी को किस समय में साथ देती थी ?
उत्तर:
मौसी सभी को सुख-दुख के समय साथ देती थी।

प्रश्न 3.
दोपहर होने पर मौसी कहाँ पहुँच जाती थी ?
उत्तर:
दोपहर होने पर माँसी स्कूल के फाटक पर पहुँच जाती थी।

प्रश्न 4.
मौसी बच्चों को क्या-क्या खिलाती थी ?
उत्तर:
मौसी बच्चों को चने, टिकिया, मूंगफली खिलाती थी।

प्रश्न 5.
मौसी के बिना सारा मोहल्ला कैसा लगता था ?
उत्तर:
मौसी के बिना सारा मोहल्ला सूना-सूना। लगता था।

प्रश्न 6.
लडके भागकर क्या उठा ले आए ?
उत्तर:
लडके भागकर खाट उठा ले आए।

प्रश्न 7.
बच्चों ने हेडमास्टर से क्या बिनती की ?
उत्तर:
बच्चों ने हेडमास्टर से विनतीकी कि मौसी | को स्कूल में काम दिया जाय।

प्रश्न 8.
मोसी के जीवन में कैसे दिन लौट आए ?
उत्तर:
मौसी के जीवन में खुशी के दिन लौट आए।

II. दो-तीन वाक्यों में उत्तर लिखिए :

प्रश्न 1.
मौसी बच्चों को कौन-कौन सी कहानियाँ सुनाती थी ?
उत्तर:
मौसी बच्चों को तोता-तोते की कहानी, काठ के घोडे की कहानी, वीरोचित कहानी आदि सुनाती थी।

प्रश्न 2.
बच्चे मौसी को कहाँ-कहाँ ढूंढते हैं ?
उत्तर:
जब स्कूल से छुट्टी हुई तो मौसी फाटक पर नहीं मिली। शाम में बच्चे अब खेलने के लिए निकले तब मौसी पेड के नीचे भी नहीं थी। किसी को भी मालूम नहीं था कि मौसी कहाँ गई है। उसके बिना सारा मोहल्ला सूना-सूना लगता था। बच्चे मौसी की खोज में घूमने लगे।

प्रश्न 3.
मकान के अंदर से बच्चों को कैसी आवाजें सुनायी दीं ?
उत्तर:
मकान के अंदर से ऊँची-ऊँची आवाज़ सुनाई दी, “हमने ठेका तो नहीं ले रखा है मौसी। बीस दिन से तुम यहाँ हो। अब तुम किसी दूसरे के घर चली जाओ।”

प्रश्न 4.
बच्चों को क्यों गुस्सा आया ?
उत्तर:
बच्चों ने मौसी को बहुत बुरी हालत में देखा। इसके बाल उलझे हुए और चेहरा सूखा हुआ था। ऐसी स्थिति में देखकर बच्चों को बहुत गुस्सा आया।

III. तीन-चार वाक्यों में उत्तर लिखिए

प्रश्न 1.
मौसी और बच्चों के बीच में क्या बातचीत हुई?
उत्तर:
मौसी से बच्चों ने पूछा – “तू इतने दिन कहाँ थी मौसी? यहाँ क्यों बैठी हो?” मौसी ने कहा “मैं यहाँ से जा रही हूँ बेटा।’ कहते हुए मौसी की आँखे भर आईं। “तू तो बीमार थी मौसी? तबीयत कैसी है?” बलदेव ने पूछा। “बेटा मैं ठीक हो गयी हूँ। अपने गाँव जा रही हूँ।” तब बच्चों ने कहा, “हम तुझे कहीं नहीं जाने देंगे मौसी।”

प्रश्न 2.
बच्चों ने मिलकर मौसी की सेवा किस प्रकार की?
उत्तर:
बच्चे दुकान से एक खाट उठा लाए और उस पर मौसी को बैठा दिया। फिर खाट को नीम के पेड़ के नीचे ले आए। कन्हैया भागकर अपने घर से दरी और तकिया लाया। उषा थाली में दो रोटियाँ लायीं। योगराज कटोरे में दूध लाया। गोपाल घर से लैंप लाया। बलदेव अपने डॉक्टर पिता को बुलाकर लाया।

प्रश्न 3.
मौसी के खुशी जीवन का वर्णन कीजिए।
उत्तर:
बच्चों में हेडमास्टर जी से बिनती की कि मौसी को स्कूल में काम दिया जाय। हेडमास्टरजी ने मान लिया और मौसी को रहने के लिए स्कूल में एक कोठरी भी दे दी। मौसी फिर से स्कूल के आँगन में आने लगी। बच्चे उसे घेरे रहते और वह उन्हें कहानियाँ सुनाती। कभी-कभी लाठी टेकती हुई मोहल्ले का चक्कर काटती, सभी घरों में झाँक उनका कुशल-क्षेम पूछती। साँझ ढले अपनी कोठरी में चली आती और चैन की साँस लेती। इस तरह बच्चों के प्रेम व स्नेह भाव से मौसी के जीवन में खुशी के दिन लौट आये।

IV. रिश्ता जानिए और लिखिए

  1. पिता के पिता : दादा :: माता के पिता : ______
  2. पिता की बहन : बुआ :: माता की बहन : ______
  3. पति/पत्नी के पिता : ससुर :: पति/पत्नी की माता : ______
  4. बेटे की पत्नी : बहू :: बेटी का पति : ______

उत्तर:

  1. पिता के पिता : दादा :: माता के पिता : नाना
  2. पिता की बहन : बुआ :: माता की बहन : मौसी
  3. पति/पत्नी के पिता : ससुर :: पति/पत्नी की माता : सास
  4. बेटे की पत्नी : बहू :: बेटी का पति : दामाद

V. नमूने के अनुसार लिखिए :

KSEEB Solutions for Class 9 Hindi वल्लरी Chapter 5 मौसी 1

VI. विलोम शब्दों के जोडे बनाइए :

उदा : बाहर x अंदर

  1. गलत
  2. सुख
  3. छोटा
  4. खुशी
  5. बहुत
  6. रात
  7. अपना
  8. नीचे

उत्तर:

  1. गलत x सही
  2. सुख x दुःख
  3. छोटा x बडा
  4. खुशी x गम
  5. बहुत x कम
  6. रात x दिन
  7. अपना x पराया
  8. नीचे x ऊपर

VII. पर्यायवाची शब्द लिखिए :

  1. पेड
  2. घोडा
  3. दूध
  4. पानी
  5. घर
  6. औरत

उत्तर:

  1. पेड – वृक्ष, तरु
  2. घोडा – अश्व, तुरंग
  3. दूध – पच, क्षीर
  4. पानी – जल, नीर
  5. घर – आलय, निवास
  6. औरत – स्त्री, महिला

VIII. सार्थक वाक्य बनाइए :

प्रश्न 1.
सबको जैसे मौसी प्यारी माँ थी के।
उत्तरः
मौसी सबको माँ के जैसे प्यारी थी।

प्रश्न 2.
वीरोचित सुनाती मौसी थी कहानियाँ।
उत्तरः
मौसी वीरोचित कहानियाँ सुनाती थी।

प्रश्न 3.
दिन दूसरे मैच हॉकी लौट खेलकर रहे थे।
उत्तरः
दूसरे दिन हॉकी मैच खेलकर लौट रहे थे।

प्रश्न 4.
पीने पानी के लिए मुन्नी लाई।
उत्तरः
मुन्नी पानी पीने के लिए लाई।

IX. कन्नड में अनुवाद कीजिए :

प्रश्न 1.
बच्चे नीम पेड के तले खेलते थे।
उत्तरः
ಮಕ್ಕಳು ಬೇವಿನ ಮರದ ಕೆಳಗೆ ಆಡುತ್ತಿದ್ದರು.

प्रश्न 2.
उसे सब मौसी कहकर पुकारते थे।
उत्तरः
ಎಲ್ಲರೂ ಅವರಿಗೆ ಮೌಸಿ ಎಂದು ಕರೆಯುತ್ತಿದ್ದರು.

प्रश्न 3.
बच्चों के लिए तो वह सेवा की मूर्ति थी।
उत्तरः
ಮಕ್ಕಳಿಗೆ ಅವರು ಸೇವೆಯ ಮೂರುತಿಯಾಗಿದ್ದರು.

प्रश्न 4.
सब के घरों में झाँक कुशल-क्षेम पूछती थी।
उत्तरः
ಎಲ್ಲರ ಮನೆಯ ಕುಶಲ ಕ್ಷೇಮವನ್ನು ವಿಚಾರಿಸುತ್ತಿದ್ದರು.

X. नमूने के अनुसार लिखिए :

उदा : दूध – मलाई, माखन, घी, मिठाई

  1. पेड
  2. सोना
  3. फूल
  4. कागज

उत्तरः

  1. पेड – फूल, पत्ते, ऑक्सीजन, वर्षा/बारिश
  2. सोना – गहने
  3. फूल – खुशबू, इत्र, शहद, रस ।
  4. कागज – किताब, थैली

XI. पाठशाला में और घर में आपको क्या-क्या करने के लिए कहा जाता है और क्या करने के लिए मना किया जाता है। तालिका में लिखिएः

क्या करना है            क्या नहीं करना है।

  1. पढना                          1. आलस
  2. सुनना                          2. झगडा
  3. लिखना                        3. बुरी बाते

भाषा – ज्ञान

  1. मीरा अच्छा गाती है। ______
  2. योगराज कटोरे भर दूध लाया। ______
  3. मौसी धीरे से बोलती है। ______
  4. राजधानी एक्सप्रेस गाडी अभी आयी है। ______
  5. बच्चे पेड़ के नीचे खेल रहे हैं। ______

उत्तरः

  1. मीरा अच्छा गाती है। अच्छा
  2. योगराज कटोरे भर दूध लाया। भर
  3. मौसी धीरे से बोलती है। धीरे से
  4. राजधानी एक्सप्रेस गाडी अभी आयी है। अभी
  5. बच्चे पेड़ के नीचे खेल रहे हैं। के नीचे

मौसी Summary in Hindi

मौसी पाठ का सारांश :

यहाँ इस कहानी में मौसी गाँव से शहर के एक मोहल्ले में आकर सब को अपनी स्वार्थहीन सेवा देती थी। बच्चे, बूढे और ज्यादा उम्र के लोग भी उसे मौसी कहकर पुकारते थे। अगर कोई बच्चा बीमार होता और | किसी के घर में शादी होती तो वहाँ सबसे पहले मौसी रहती थी। मौसी दोपहर होते ही स्कूल की फाटक पर आती। छुट्टी की घंटी बजते ही बच्चे बाहर आकर उसके साथ मिल जाते थे। यह मौसी कौन थी कहाँ से आई किसी को मालूम नहीं था।
KSEEB Solutions for Class 9 Hindi वल्लरी Chapter 5 मौसी 5

रोज दोपहर ढलने पर मौसी नीम के पेड़ के नीचे पहुँच जाती थी। वहाँ सभी बच्चे खेलते थे। मौसी बच्चों के साथ खेलती, उन्हें कहानियाँ, चुटकुले सुनाती थी। मौसी मैला सा दुपट्टा ओढी रहती थी। उसके पास चने, टिकिया दाल-फलियाँ रहतीं जिन्हें वह बच्चों को दे देती थी। मौसी बच्चा की मौसी | बनकर उस बच्चों को | अपने बच्चे मानती
थी। कई दिनों से मौसी नहीं आयी। उसका कुछ भी पता न चला। वह मोहल्ला खाली खाली और पेड़ के नीचे सूनापन रहता था।
KSEEB Solutions for Class 9 Hindi वल्लरी Chapter 5 मौसी 4

एक दिन मौसी ढूंढते लेखक और बाकी बच्चे एक मकान से आवाज सुने कि कई स्त्री मौसी को यहाँ से जाने के लिए कह रही थीं। मौसी की तबीयत ठीक नहीं थी। वह एक खाट पर लेटी थी। उसके बाल उलझे हुए और चेहरा पीला पड़ा था। बच्चों को गुस्सा आया। दूसरे दिन हॉकी मैच खेलकर जब बच्चे लौट रहे थे तब रास्ते में एक पुल पर मौसी को 1 बैठे देख लिया। उसके पास एक छोटी गठरी और लाठी थी। बच्चे उसे घेरकर उसकी तबीयत के बारे में पूछने लगे।
KSEEB Solutions for Class 9 Hindi वल्लरी Chapter 5 मौसी 3

बच्चों ने मौसी का रोना सुनकर आए और वे उसे अकेली नहीं छोड़ना चाहते थे। दो। तीन लडके एक | दुकान से खाट । लाये और उस पर मौसी को बिठाकर खाट उठाकर बच्चे महल्ले की तरफ चले। बच्चों के प्यार को देखकर मौसी उन्हें छोड़कर जाना नहीं चाहती थी। बच्चों के उत्साह को देखकर उनके घरवालों को भी मौसी की चिन्ता लगी।
KSEEB Solutions for Class 9 Hindi वल्लरी Chapter 5 मौसी 2

बच्चों के स्कूल के हेडमास्टरजी ने उसे काम देकर एक कोठरी भी उसे रहने के लिए दे दिया। बहुत साल बीत चुके हैं। अब भी मौसी वहीं है। अब वह स्कूल की प्याऊ में बैठकर बच्चों को पानी पिलाती है। ढंड के दिनों में मौसी आँगन के धूप में बैठ जाती है। वह बच्चों को कहानी सुनाती। कभी लाठी के सहारे मोहल्ले में घूमती। सभी घरों में झाँककर उनके कुशलक्षेम पूछती है। शाम होते ही मौसी अपनी कोठरी में वापस जाती है।

मौसी Summary in Kannada

मौसी Summary in Kannada 1
मौसी Summary in Kannada 2
मौसी Summary in Kannada 3

मौसी Summary in English

This lesson by Bhisham Sahni describes the selfless service of an old woman whom everyone addressed as an aunt. Children get inspiration through this lesson to serve people, to show respect to elders and to help the needy.

People, both young and old, addressed her as an aunt. Everyone loved her as if she was their mother. She shared the joy and sorrow of all. For children, she was the epitome of service.

Every afternoon she appeared at the school gate. As soon as the bell rang, the students would rush out and put their bags on her shoulder. She would be surrounded by children.

When it was past noon, the aunt would come to the neem tree where all children would be playing. She liked to play with the children, narrate stories and tell them jokes and riddles. She would also bring eatables for the children.

One day when the children came out of the school as usual in the afternoon, they did not see aunt at the door. Nor was she found below the neem tree under which they played. No one knew where she had gone.

Many days passed and her whereabouts were not known. The whole locality had a deserted look in her absence. One day when the children were going around in search of her, they heard someone shouting from one of the houses. “Aunt, we haven’t taken the responsibility of taking care of you. You have been staying here for the last twenty days.

Now better go to someone else’s house”. The children peeped in through the gap in the closed door. The aunt was lying on a cot. Her hair was dishevelled and her face had turned pale. Seeing the condition of an aunt, the children were greatly distressed and also angry.

The next day when the children were returning after playing a hockey match they noticed aunt sitting near a bridge. There were a small bundle and a stick near her. The boys surrounded her and began to question her. One of them asked, “Where had you been all these days, aunt? Why are you sitting here?” Aunt said, “My child, I am leaving this place” and her eyes turned pale. “You were not well. How is your health now?” enquired Baldev. “Child, I am alright. I am returning to my village.” “We won’t allow you to leave this village,” the children said in one voice. Tears trickled down from her eyes.

There was a cot in front of a shop. The children brought it and forcibly made aunt sit on it. They then carried the cot and put it under the neem tree. Kanayya rushed home and returned with a bedsheet and a pillow. Usha brought two rotis in a plate. Yograj brought milk in a cup. Gopal brought a lamp from his house. Munni got some drinking water. Baldev came with his father who was a doctor.

The children began to deliberate on where aunt could be made to stay. First, they thought that they would keep her in their houses by turns. Then on second thoughts, they approached the headmaster with a request to give her some employment in the school. The headmaster not only gave her employment but also gave her a room to stay in.

The aunt was back in the school courtyard. Children would surround her and she would tell them stories. Occasionally she would go down the lane with her walking stick, peep into all the houses and enquire about their well being. By evening she would return to her room and heave a sigh of relief. Thus, thanks to the love and affection of the children, the days of happiness returned in the life of the aunt.

KSEEB Solutions for Class 9 Hindi

Leave a Comment