Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

KSEEB Solutions for Class 8 Hindi निबंध लेखन

Karnataka Board Class 8 Hindi निबंध लेखन

पर्यावरण की रक्षा

जनसंख्या वृद्धि एवं बढ़ते हुए फैशन के कारण – मनुष्य ने जंगलों का या वृक्षों का उपयोग ज्यादा करने लगा है। उपकरणों एवं ईधन के रूप में इतना अधिक करना प्रारंभ कर दिया कि प्रकृति का भी अस्तित्व संकट में पड़ जाएगा। इसलिए आज ‘पर्यावरण की रक्षा करना सबसे बड़ी समस्या बन गई है।’ वायु हमारे प्राणों का आधार है।

इसलिए वायु को शुद्ध रखना बहुत ज़रूरी है। वायु को शुद्ध रखने के लिए आम, नीम, बरगद, तुलसी, आंवला और पीपल का वृक्ष आदि लगना ज़रूरी है। जंगल को काटने से बचाना है। अगर हम किसी एक वृक्ष को काटना है तो उसकी जगह पर दूसरा वृक्ष लगाना चाहिए। वृक्षों की संख्या ज्यादा रहने से समय के अनुसार वर्षा भी अच्छी तरह से होती है।

जंगलों के संरक्षण एवं संवर्धन के द्वारा वायु प्रदूषण को रोका जा सकता है। जल मनुष्य की बुनियादी आवश्यकता है। इसलिए कुआँ, तालाब और नदी का जल सफाई के साथ सुरक्षित रखा जाए। रासायनिक क्रियाओं के द्वारा परिशोधन किया जाए तो जल प्रदूषण को रोका जा सकता है। सरकार ने इस दिशा में प्रयास प्रारंभ कर दिया है। प्रदूषण का निवारण तभी हो सकता है ‘जब जनता एवं सरकार का एक साथ प्रयास – इस दिशा में निरंतर होता रहे।

समय का सदुपयोग

समय सब से ज्यादा मूल्य है। क्योंकि धन आता जाता रहता है, लेकिन बीता हुआ समय वापस कभी नहीं आता है। समय गतिशील है। इसे कोई भी रोक नहीं पाता और बाँधा नहीं जा सकता। इसलिए समय के बारे में कबीरदास ने इस प्रकार कहा है – ‘कल का काम आज करना चाहिए और आज का काम अभी शुरू कर देना चाहिए।’

इसलिए समय का उपयोग, सही उपयोग, सदुपयोग करना बहुत आवश्यक है। समय का उपयोग हमारे काम और सोच-विचार पर निर्भर है। दिन में चौबीस घण्टे होते हैं। उनमें से नित्य कर्म का समय निकाल देने के बाद जो समय बचता है, उसे सही योजना बनाकर उपयोग में लाना ही समय का सदुपयोग है। समय पर उठना, समय पर सोना बहुत आवश्यक है। जो जल्दी उठते हैं, वे दिन भर के सभी काम समय पर ही पूरे कर सकते हैं।

प्रत्येक काम को समय के साथ करना। हमें भी समय के साथ-साथ निरंतर गतिशील रहना चाहिए। समय को अच्छी तरह से योजना बनाकर एक पल भी नष्ट किए बिना काम-काज करना है। वही आदमी समाज में आगे बढ़ सकता है। वह सुखी और स्वच्छंद से जीवन बीत सकता है। जो समय को महत्व नहीं देकर कामकाज ठीक तरह से नहीं करता है वह कभी भी समाज में आगे नहीं बढ़ सकता है। वह हर कदम-कदम पर ठोकर खाता-रहता है। इसलिए आज की सबसे बड़ी आवश्यकता है कि हम समय का सही उपयोग करें।

KSEEB Solutions for Class 8 Hindi

Leave a Comment